Sunday, 9 January 2011

"बेबसी...!!!"

"बेबसी...!!!"



आज कोरे काजग में क्यों...
अपने जीवन का कोरापन दिखता है |
बैठा था कुछ लिखने फ़साने जीवन के..
क्यों मेरे आंसुओं से ये गिला हो जाता है ||

हसरतें बहुत हैं उमड़ती मेरे अन्दर--
पर हो गया हूँ मैं बेबस इस तरह कि...
इस ठूंठ दुनिया में ------
जिंदगी एक छांव की तालाश करती  है ||

अपनों  ने भी ठुकराया ऐसे कि....
अब किसी पर आस होती नहीं है |
दे दो मुझे सहारा एक  बैसाखी का...
कि मेरे पैर भी अब लाचार दिखते हैं |||
----------*----------

No comments:

Post a Comment