Friday, 21 January 2011

"दोस्त..!!"


दोस्त..
यूँ तो आइना रोज़ देखता हूँ ,
अपने चेहरे को रोज़ सवांरता हूँ ...
रोज़ वही शख्स दिखता है आईने में ,
कुछ खोया हुआ सा अपने ख्यालों में !

पर आज अचानक ऐसा लगा मानो --
आईने ने मुझे देखा हो पहली बार ...
अपने ही अक्स को देखकर मैं घबराया ...
खुद को अपने ही सामने बेबस पाया !

कुछ ऐसी भूली हुई तस्वीरें दिखीं...
भावनाएं फिर मुझसे ना छुपीं ,
रो पड़ा मैं उसी वक़्त कि ,
सारी तस्वीरें गीली हो चलीं  ...

जिनका भी साथ जीवन में पाया ,
साथ जिनके मैंने समय बिताया ...
जाने कहाँ खो गए वो संगे - साथी ,
मैं उनसे दूर राह पर निकल आया !

मुझे माफ़ करना मेरे दोस्तों कि--
समय ने मुझे कुछ ऐसे दौड़ाया ....
तुमसे एक बार दुबारा मिल सकूँ ,
इसका भी मैंने आस गवांया !

अब तक का सफ़र हुआ सुखद ....
है शुक्रिया तुम सभी का ....
जिसने भी इस जीवन पथ पर ---
है मेरा साथ निभाया ....!!
----------*----------

1 comment:

  1. Your blog is great你的部落格真好!!
    If you like, come back and visit mine: http://b2322858.blogspot.com/

    Thank you!!Wang Han Pin(王翰彬)
    From Taichung,Taiwan(台灣)

    ReplyDelete