Thursday, 24 March 2011

"विरह..!!"


विरह
आज अमावास के अँधेरे में,
तीन जान तनहा भटक रहे हैं |
मैं यहाँ अकेला तुम्हें सोच रहा हूँ,
तुम वहां अकेली खोयी हो,
और ये रात अकेली रो रही है |

चाँद इस रात से  कुछ यूँ खफा है,
कि चांदनी इसे आज नसीब नहीं |
और समय मुझसे कुछ यूँ खफा है.
कि मेरी चांदनी आज मेरे करीब नहीं |  

बस कुछ और दिनों  की विरह है, 
जब चाँद बिखेरेगा रात पर  चांदनी |
ये अमावास की रात खिलखिला उठेगी,
जब तुम्हें मैं अपनी बाहों में लूँगा,
और कोई दूरी न अपने दरमयां रहेंगी  ||
----------*----------

(H/English)
Virah
Aaj amawas ki raat me,
Tin jaan tanaha bhatak rahe hain |
main yahan akela tumhain soch raha hun,
Tum wahan akeli khoyi ho,
aur ye raat akeli ro rahi hai |

Chaand is raat se kuch yun khafa hai,
ki chandni ise aaj naseeb nahi hai |
aur samay mujhse kuch yun khafa hai,
ki meri chandni mere kareeb nahi hai |

bas kuch aur dinon ki virah hai,
jab chand bikherega raat par chandni |
ye amawas ki raat khilkhila uthegi,
jab tumhain main apni baahon me lunga,
aur koi doori na apne darmaayan rahengi ||
----------*----------

Tuesday, 22 March 2011

"इंतज़ार..!!"


तुम्हारी थोड़ी देर से, ये जान निकल जाएगी,
तुम्हारी थोड़ी सी बेरुखी से, जिंदगी ख़त्म हो जाएगी !!

हजारों सितम सहे हैं हमने - तुम्हारे खातिर,
ग़मों को पी लिया है, ख़ुशी समझकर तुम्हारे खातिर !!

हर पल हर रात गुजर जाएगी, अगर तुम्हारे इंतज़ार में,
कुछ भी रहेगा जिंदगी में बाकी तुम्हारे इंतज़ार में !!

तुम्हें लगता है कि बहुत वक़्त है तुम्हारे पास,
मगर सालों यूँ ही बीत गए एक पल में तुम्हारे इंतज़ार में !!

अब तो लगता ही नहीं कि कभी ख़त्म होगी ये इंतज़ार,
ना रहेगा तुम्हारा ये नाज़, ना रहेगा उसका इंतज़ार !!!!
----------*----------
(H/English)
Intezaar
Tumhari thori der se, ye jaan nikal jayegi,
Tumhaari thori si berukhi se, zindagi khatm ho jayegi !!

Hazaroon sitam sahe hain humne- tumhaare khatir,
Gamon ko pi liya hai, khushi samajhkar tumhaare khatir !!

Har pal, har raat gujar jayegi, agar tumhaare intezaar me,
Kuch bhi na rahega zindagi me baaki tumhaare intezaar me !!

Tumhain lagta hai ki bahut waqt hai tumhaare pass,
Magar saalon yun hi bit gaye ek pal me tumhaare intezaar me !!

Ab to lagtahi nahi ki kabhi khatm hogi ye intezaar,
Naa rahega tumhara ye naaz, naa rahega uska intezaar !!
----------*----------

Thursday, 17 March 2011

" ज़माना..!!"
















वक़्त के सफ़र में                              Waqt ke safar me
लोग आते जाते हैं                              Log aate jaate hain
जैसे इंसान के उम्र में                         Jaise insaan ke umr me
परिधान आते जाते हैं                        Paridhaan aate jaate hain
ज़माने तो बदलते हैं                          Zamaane to badalte hain
राहें भी गुजरती हैं                             Raahen bhi gujarti hain
ऐसे ही हर एक मोड़ पे                      Aise hi har mod pe
मुसाफिर आते जाते हैं                      Musafir aate jaate hain
बदलता नहीं है सफ़र                        Badalta nahi hai safar
किसी के आने जाने से                      Kisi ke aane jaane se
मुसाफिर बदल जाते हैं                     Musafir badal jaate hain
मुकाम बदल जाते हैं                        Mukam badal jaate hain
समय बदल जाते हैं                         Samay badal jaate hain
इंसान बदल जाते हैं                         Insaan badal jaate hain
पर तुम न बदलना ऐसे                    Par tum na badalna aise
क्योंकि आगे जब हम मिलें              Kyunki aage jab hum milen
तुम्हें ऐसे ही देखना चाहते हैं             Tumhain aise hi dekhana chahte hain
                ----------*-----------

Thursday, 10 March 2011

"वीरान शहर..!!"

यहाँ ना अब फूल खिलते हैं
ना चमन में तितलियाँ उडती हैं
कि शहर अब वीरान रहता है
लाखों लोग यहाँ घूमते  हैं
पर किसी के दिल में अब ना उमंग रहती है
अपने अपने कब्र में बस यहाँ मुर्दे रहते हैं
होली में अब सड़कों पर रंग नहीं गिरते हैं
कि बच्चों कि वो टोली, वो झुण्ड नहीं मिलती है
दिवाली में पटाखों कि गूंज भी अब नहीं सुनती है
कि अब मेले में वो भीड़, वो शोर नहीं होती है
अब शादी में भी इतने लोग नहीं दीखते हैं
कि पहले मय्यतों में जितनी भीड़ होती थी
मोहल्ले से जब किसी कि बारात जाती है
तो लोगों कि खिड़कियाँ अब बंद रहती है
लोग अब अपने दुःख से उतना दुखी नहीं होते हैं
जितना कि पडोसी के सुख से दुखी हो जाते हैं
दिल यह  सोच कर बार बार रोता है
कि शहर ही वीराना होता है
या यहाँ सिर्फ मुर्दे ही बसते हैं...||
----------*----------

(H/English)
Yahan na ab ful khilte hain
Naa chaman me titliyaan uadti hain
Ki shahar ab viraan rahata hai
Laakhon log yahan ghumte hain
Par kisi ke dil me ab na umang rahati hai
Apne apne kabr me bas yahan murde rahate hain
Holi me ab yahan sadkon par rang nahi girte hain
Ki bachchon ki toil, vo jhund nahi milti hai
Diwali me patakhon ki gunj bhi ab nahi sunti hai
Ki mele me ab wo bhid, vo shor nahi hoti hai
Ab shaadi me bhi itne log nahi dikhate hain
Ki pahale mayatton me jitni bhid hoti thi
Mohalle me jab kisi ki barat jaati hai
To logon ki khidkiyaan ab band rahati hain
Log ab apne dukh se utna dukhi nahi hote hain
Jitna ki padosi ke sukh se dukhi ho jaate hain
Dil yah soch kar baar baar rota hai
Ki shahar hi veerana hota hai
Ya yahan sirf murde hi baste hain…||
----------*----------

Monday, 7 March 2011

"जाने क्यों..||"





शहर ये अनजाना सा लगने लगा  है..
कि शाम ये तन्हा  सी लगने लगी है..
तुम जो यूँ चली जा रही हो यहाँ से..
कि हर ख़वाब अधुरा सा लगने लगा है..|

दोस्त वही  हैं, वही भीड़ भी हो रही है,
पर झुंड से वो हंसी गायब हो रही है..
मौसम बदला बदला सा लग रहा है...
और अब अपना भी अनजाना लग रहा है..|

आज वक़्त का परिंदा क्यों नहीं रुक रहा है..
कि ये रात कितनी छोटी लग रही है...
तुम्हें ही देख रहा हूँ मैं...
ये आखें मेरी जब भी लग रही है..|

पैर नहीं उठ रहे तुमसे जुदा होने को...
जाने कौन इसे आज रोक रहा है...
दिल तन्हा तन्हा टूट रहा है...
जाने क्या पीछे छुट रहा है..||
----------*----------

(H/English)
Shahar ye anjaana sa lagne laga hai..
Ki shaam ye tanha si lagne lagi hai..
Tum jo yun chali ja rahi ho yahan se..
Ki har khwab adhura sa lagne laga hai..|

Dost wahi hain, wahi bheed bhi ho rahi hai,
Par jhund se wo hansi gayab ho rahi hai..
Mousam badla badla sa lag raha hai…
Aur ab apna bhi anjaana lag raha hai..|

Aaj waqt ka parinda kyun nahi ruk raha hai..
Ki ye raat kitni chhoti lag rahi hai…
Tumhain hi dekh raha hun main…
Ye aakhen meri jab bhi lag rahi hain..|

Pair nahi uth rahe tumse juda hone ko…
Jaane koun ise aaj rok raha hai...
Dil tanha – tanha tut raha hai…
Jaane kya pichhe chhut raha hai..||
----------*----------