Monday, 7 March 2011

"जाने क्यों..||"





शहर ये अनजाना सा लगने लगा  है..
कि शाम ये तन्हा  सी लगने लगी है..
तुम जो यूँ चली जा रही हो यहाँ से..
कि हर ख़वाब अधुरा सा लगने लगा है..|

दोस्त वही  हैं, वही भीड़ भी हो रही है,
पर झुंड से वो हंसी गायब हो रही है..
मौसम बदला बदला सा लग रहा है...
और अब अपना भी अनजाना लग रहा है..|

आज वक़्त का परिंदा क्यों नहीं रुक रहा है..
कि ये रात कितनी छोटी लग रही है...
तुम्हें ही देख रहा हूँ मैं...
ये आखें मेरी जब भी लग रही है..|

पैर नहीं उठ रहे तुमसे जुदा होने को...
जाने कौन इसे आज रोक रहा है...
दिल तन्हा तन्हा टूट रहा है...
जाने क्या पीछे छुट रहा है..||
----------*----------

(H/English)
Shahar ye anjaana sa lagne laga hai..
Ki shaam ye tanha si lagne lagi hai..
Tum jo yun chali ja rahi ho yahan se..
Ki har khwab adhura sa lagne laga hai..|

Dost wahi hain, wahi bheed bhi ho rahi hai,
Par jhund se wo hansi gayab ho rahi hai..
Mousam badla badla sa lag raha hai…
Aur ab apna bhi anjaana lag raha hai..|

Aaj waqt ka parinda kyun nahi ruk raha hai..
Ki ye raat kitni chhoti lag rahi hai…
Tumhain hi dekh raha hun main…
Ye aakhen meri jab bhi lag rahi hain..|

Pair nahi uth rahe tumse juda hone ko…
Jaane koun ise aaj rok raha hai...
Dil tanha – tanha tut raha hai…
Jaane kya pichhe chhut raha hai..||
----------*----------

1 comment: