Thursday, 10 March 2011

"वीरान शहर..!!"

यहाँ ना अब फूल खिलते हैं
ना चमन में तितलियाँ उडती हैं
कि शहर अब वीरान रहता है
लाखों लोग यहाँ घूमते  हैं
पर किसी के दिल में अब ना उमंग रहती है
अपने अपने कब्र में बस यहाँ मुर्दे रहते हैं
होली में अब सड़कों पर रंग नहीं गिरते हैं
कि बच्चों कि वो टोली, वो झुण्ड नहीं मिलती है
दिवाली में पटाखों कि गूंज भी अब नहीं सुनती है
कि अब मेले में वो भीड़, वो शोर नहीं होती है
अब शादी में भी इतने लोग नहीं दीखते हैं
कि पहले मय्यतों में जितनी भीड़ होती थी
मोहल्ले से जब किसी कि बारात जाती है
तो लोगों कि खिड़कियाँ अब बंद रहती है
लोग अब अपने दुःख से उतना दुखी नहीं होते हैं
जितना कि पडोसी के सुख से दुखी हो जाते हैं
दिल यह  सोच कर बार बार रोता है
कि शहर ही वीराना होता है
या यहाँ सिर्फ मुर्दे ही बसते हैं...||
----------*----------

(H/English)
Yahan na ab ful khilte hain
Naa chaman me titliyaan uadti hain
Ki shahar ab viraan rahata hai
Laakhon log yahan ghumte hain
Par kisi ke dil me ab na umang rahati hai
Apne apne kabr me bas yahan murde rahate hain
Holi me ab yahan sadkon par rang nahi girte hain
Ki bachchon ki toil, vo jhund nahi milti hai
Diwali me patakhon ki gunj bhi ab nahi sunti hai
Ki mele me ab wo bhid, vo shor nahi hoti hai
Ab shaadi me bhi itne log nahi dikhate hain
Ki pahale mayatton me jitni bhid hoti thi
Mohalle me jab kisi ki barat jaati hai
To logon ki khidkiyaan ab band rahati hain
Log ab apne dukh se utna dukhi nahi hote hain
Jitna ki padosi ke sukh se dukhi ho jaate hain
Dil yah soch kar baar baar rota hai
Ki shahar hi veerana hota hai
Ya yahan sirf murde hi baste hain…||
----------*----------

No comments:

Post a Comment