Thursday, 17 March 2011

" ज़माना..!!"
















वक़्त के सफ़र में                              Waqt ke safar me
लोग आते जाते हैं                              Log aate jaate hain
जैसे इंसान के उम्र में                         Jaise insaan ke umr me
परिधान आते जाते हैं                        Paridhaan aate jaate hain
ज़माने तो बदलते हैं                          Zamaane to badalte hain
राहें भी गुजरती हैं                             Raahen bhi gujarti hain
ऐसे ही हर एक मोड़ पे                      Aise hi har mod pe
मुसाफिर आते जाते हैं                      Musafir aate jaate hain
बदलता नहीं है सफ़र                        Badalta nahi hai safar
किसी के आने जाने से                      Kisi ke aane jaane se
मुसाफिर बदल जाते हैं                     Musafir badal jaate hain
मुकाम बदल जाते हैं                        Mukam badal jaate hain
समय बदल जाते हैं                         Samay badal jaate hain
इंसान बदल जाते हैं                         Insaan badal jaate hain
पर तुम न बदलना ऐसे                    Par tum na badalna aise
क्योंकि आगे जब हम मिलें              Kyunki aage jab hum milen
तुम्हें ऐसे ही देखना चाहते हैं             Tumhain aise hi dekhana chahte hain
                ----------*-----------

2 comments: