Monday, 11 February 2013

"नज़र..!!"



यूँ ही चलते चलते जब 
किसी की नज़रों में देखता हूँ 
तो लगता है 
हर नज़र कुछ बोलती है
होंठ तो खिले होते हैं
पर पलकें नम होती हैं
और दिलों में कुछ सपनों के 
अधूरे रहने का गम होता है ।।
----------*----------