Monday, 23 December 2013

"दोबारा...!!!"


ज़िन्दगी के सफ़र में,
सोचा कि...
फिर तेरे शहर से गुजरूं
उन यादों को पलटूं,
कि तुझे फिर से ज़िंदा करूँ-
एक शाम तेरे यहाँ बिताना है ,
फिर सुबह उठकर निकल जाना है |
तुम मिलोगी तो नहीं वहाँ--
जहाँ हम अक्सर मिला करते थे ,
पर बैठूंगा मैं तेरे इंतज़ार में..
उस शान्त नदी के किनारे ..
इस उम्मीद में कि शायद दूर तेरे देश से -
कोई चिड़िया... कोई पैगाम लाये ..
                                                                                       चुन-चुन कर के मुझे सुनाये ..
                                                                                       और तेरा हाल बताए ||
                                                                                       ----------*----------



<<E/Hinglish>>
Zindagi ke safar me,
Socha ki...
Fir tere shahar se gujarun
Un yaadon ko palatun,
ki tujhe fir se zinda karun--
ek shaam tere yahan bitana hai ,
fir subah uthakar nikal jana hai..
tum milogi to nahi wahan --
jahan hum aksar mila karte the ,
par baithunga main tere intezar me..
us shaant nadi ke kinaare ..
is ummid me ki shayad dur-- tere desh se --
koi chidiya... koi paigaam laaye...
chun-chun kar ke mujhe sunaaye...
aur tera haal bataye ...
----------*----------

No comments:

Post a Comment