Wednesday, 1 July 2015

"जाने क्यों बदल गए...!!"


तुम कल थे मेरे पास..
आज नहीं हो...
धड़कने कल भी धड़कतीं थी
धड़कने आज भी धड़कतीं हैं...
फ़र्क सिर्फ ये है कि...
कल तेरे साथ धड़कतीं थीं..
आज तेरी याद में धड़कतीं हैं |
तुमने एक वक़्त माँगा था मुझसे....
देखो उस वक़्त ने तुमको ...
आज कितना बदल दिया है,
पर तेरी एक तस्वीर रखी है,
अभी भी संभाल कर मैंने ||
----------*----------

No comments:

Post a Comment