Friday, 22 April 2011

"दर्द..!!"



आज मिले हम बरसों बाद,
मानो समय रुक सा गया है..
ना मेरे पास कोई बात है,
ना तुम कुछ बोल रही हो..
मैं तुम्हें देखता हूँ बस एक टुक..
तेरी नज़रें भी कुछ पथराई सी है..
एक दर्द है तेरी  उन आखों में,
जैसे तुमने कुछ खो दिया है ||

H/English

Aaj mile hum barson baad,
maano samay ruk sa gaya hai..
na mere paas koi baat hai,
naa tum kuchh bol rahi ho..
main tumhain dekhata hun bas ek tuk..
teri nazar bhi kuchh patharai si hain..
ek dard hai teri un aakhon me,
jaise tumne kuchh kho diya hai ||

Tuesday, 19 April 2011

"समाधि..!!"

इस संसार में आज क्यों है इतना क्लेश
क्यों आदमी, आदमी से कर रहा है द्वेष
क्यों जरूरतें नहीं होती हैं जिंदगी भर पूरी
कुछ भी तो तेरा नहीं है यहाँ पर
उससे जितना लिया है उसे उतना लौटना ही है
फिर क्यों....
आदमी को ज़िन्दगी भर है इतना गुमान ..
एक मुट्ठी राख है शमशान में जलने के बाद
बस मेरी यही आखरी इच्छा है कि
मेरी चिता के सामने एक आईना रखना...
देखूंगा कैसे जलकर राख हो रहा हूँ मैं ...
----------*----------

(H/English)
Is sansaar me aaj kyun hai itna klesh
kyun aadmi, aadmi se kar raha hai dwesh
kyun jaruraten nahi hoti hai zindgi bhar puri..
kuchh bhi to tera nahi hai yahan par
usse jitna liya hai use utna loutana hi hai
fir kyun....
aadmi ko zindgi bhar hai itna gumaan...
ek mutthhi raakh hai shamshan me jalne ke baad
bas meri yahi aakhri ichchha hai ki...
meri chita ke saamne ek aaina rakhana...
dekhunga kaise jalkar raakh ho raha hun main...
----------*----------

Sunday, 17 April 2011

"तेरा शहर..!!"



सुबह होते ही तेरे शहर से जाना है मुझको,
आज की रात जरा मुझको मना कर सोना..
अगर हो सके तो लौटा दे मुझको मेरी हंसी..
या सारी रात मुझको रुला के सोना,
दीया याद का कोई बुझ न जाए कहीं..
कोई शमा प्यार की जला कर सोना...
मैं नहीं कहता कि रहो उम्र भर साथ मेरे..
बस आज की रात अपना बना कर सोना..
उम्र भर रहूँगा तेरी धड़कन में...
बस आज की रात तुम सीने से लगा कर सोना ||||
---------*---------


H/English
subah hote hi tere shahar se jana hai mujhko,
aaj ki raat zaraa mujko manaa kar sona..
agar ho sake to louta de mujhko meri hansi..
ya saari raat mujko rula kar sona,
diya yaad ka koi bujh na jaaye kahin,
koi shamaa pyar ki jalaa kar sona...
main nahi kahata ki raho umar bhar saath mere..
bas aaj ki raat apana banaa kar sona..
umar bhar rahunga teri dhadkan me..
bas aaj ki raat tum sine se lagaa kar sona||||
---------*---------

Saturday, 9 April 2011

"दुपट्टा..!!"




मुद्दतों बाद तेरा दुपट्टा मेरे सामने आया 
देखा इसे तो वो दिन याद आया...
कितनी जिद्द थी तुम्हें इसे लेने की
बड़े अरमानों से ख़रीदा था तुमने...
तेरी गर्दन की ये शान थी
लपेट कर जब तुम इसे चलती थी....
तेरी मतवाली चाल पर ये लहराती थी 
दूर से ही तुम्हें देखकर 
तेरी खुशबू महसूस हो जाती थी
जब तुम इस दुपट्टे से 
अपनी आखें बंद करके 
चेहरे को ढकती थी  और
दाँतों से जब दुपट्टे को कटती थी 
एक अजब सी  ख़ामोशी 
आस पास छा जाती थी 
और जब तुम अपनी आखें खोलतीं
तो मेरे ऊपर तेरी आखों की 
रेशमी चमक की बारिश होती थी...
मुद्दतों बाद तेरा दुपट्टा मेरे सामने आया 
देखा इसे तो वो दिन याद आया...
----------*----------


(H/English)
"Dupatta"
Muddaton baad tera dupatta mere saamne aaya
Dekha ise to vo din yaad aaya
Kitni zidd thi tumhain ise lene ki
Bade armaanon se kharida tha tumne...
Teri garden ki ye shaan thi
Lappet kar jab tum ise chalti thi...
Teri matwaali chaal par ye lahraati thi
Dur se hi tumhain dekhkar
Teri khushboo mahsus ho jaati thi
Jab tum is dupatte se
Apni aakhen band karke
Chehre ko dhaktin thi aur
Daaton se jab dupatte ko katati thi
Ek ajab si khamoshi
Aas paas chhaa jaati thi
Aur jab tum apni aakhen kholti thi
To mere upar teri aakhon ki
Reshami chamak ki barish hoti thi...
Muddaton baad tera dupatta mere saamne aaya
Dekha ise to vo din yaad aaya...
----------*----------